बुलंदशहर इज्तमा में देशभर से जुटे लाखों मुस्लिम, मौलाना साद बोले- ‘इस्लाम प्यार-मोहब्बत का पैगाम देता है’

बुलंदशहर । यूपी के बुलंदशहर में पिछले 2 दिन से लाखों मुस्लिम समाज के लोग एकजुट हैं और वह दीन के रास्ते पर चलने का संकल्प ले रहे हैं । लाखों लोगों के लिए व्यवस्थाओं में तमाम समाजसेवी संगठन और तंजीमें जुटी हुआ हैं । दिल्ली रोड पर हो रहे इस इज्तमा कार्यक्रम में धार्मिक गुरुओं के भी भाषण हो रहे हैं । निजामुद्दीन मरकज से आए हजरत मौलाना साद ने इज्तमा के दूसरे दिन रविवार को देश-विदेश से आए अकीदतमंदों को तकरीर करते हुए कहा कि दीन के रास्ते पर सभी को चलना चाहिए। इंसान के दीन के रास्ते पर चलने से अल्लाह खुश होता है।

रविवार को तब्लीगी इज्तमा में अकीदतमंदों से भरे विशाल पंडाल में तकरीर करते हुए हजरत मौलाना साद ने कहा कि कुरान में जो बातें बतलाई गई हैं उन पर हर मुसलमान अमल करे। अल्लाह ने जो जिंदगी दी है उसका कुछ मकसद है। उस मकसद को समझकर अपनी जिंदगी जीने वाला इंसान ही खुदा के करीब पहुंचता है। इस्लाम में जरूरतमंदों की मदद करना सवाब का काम है। यही सवाब उन्हें जन्नत तक पहुंचाता है। जो दीन-दुखियों की मदद नहीं करता, अल्लाह के बताए रास्ते पर नहीं चलता और इस्लाम के उसूलों को नहीं मानता वह अपनी जिंदगी को बर्बाद करता है। उसे फिर दोजख में ही जगह मिलती है। हजरत मौलाना साद ने इस पर जोर दिया कि इस्लाम हमें प्यार-मोहब्बत का पैगाम देता है। हर इंसान को दूसरे इंसान से मोहब्बत करनी चाहिए। हर किसी को दंगा-फसाद से बचना चाहिए। अकीदतमंदों ने बड़े ध्यान से हजरत मौलाना साद की तकरीर सुनी।

नेक काम कर जिंदगी को कामयाब करें : मौलाना यूसुफ बुलंदशहर। दिल्ली की निजामुद्दीन मरकज के हजरत मौलाना साद के साहबजादे मौलाना यूसुफ ने फजर की नमाज के बाद तकरीर में कहा कि नेक काम कर इंसान को अपनी जिंदगी को कामयाब बनाना चाहिए। अल्लाह ने हर इंसान को 24 घंटे का वक्त दिया है। उसी वक्त से इंसान महान बन जाता है और कुछ लोग इंसान भी नहीं बन पाते। फर्क सिर्फ सोच का है। जिसने अपनी सोच को इस्लाम से जोड़ लिया वह जिंदगी में तरक्की पाता है। उसके हर काम बनते चले जाते हैं। इस्लाम के उसूलों को अपनाएं : मौलाना मुर्सलीम बुलंदशहर। दिल्ली की हजरत निजामुद्दीन मरकज से आए मौलाना मुर्सलीम ने जौहर की नमाज के बाद तकरीर करते हुए कहा कि इस्लाम के उसूलों को अपनाते हुए उस पर अमल करें। उन्होंने कहा कि मोहम्मद साहब ने इंसान को बेहतर जिंदगी जीने के नियम बताए हैं, उन पर अमल करें।