मायावती का मिशन-2022 शुरू, RLD छोड़ BSP में फिर शामिल हुए पूर्व मंत्री

आगरा। मायावती मिशन 2022 के लिए अभी से जुट गई हैं । पूर्व मंत्री नारायन सिंह सुमन और उनके बेटे पूर्व एमएलसी स्वदेश कुमार उर्फ वीरु सुमन ने रविवार को बसपा में वापसी हो गई। दोनों को पार्टी विरोधी गतिविधियों के चलते वर्ष 2016 में पार्टी से निष्कासित किया गया था।

बसपा अध्यक्ष मायावती के निर्देश पर सांसद गिरीशचंद्र नगीना व शमसुद्दीन राइन, जोन इंचार्ज आगरा व अलीगढ़ जोन देवी सिंह जाटव, मंडल जोन इंचार्ज रविंद्र पारस की सहमति से पूर्व मंत्री नारायन सिंह सुमन और उनके बेटे वीरू सुमन को बसपा में शामिल किया गया। पूर्व मंत्री नारायण सिंह सुमन ने बसपा से निष्कासन के बाद राष्ट्रीय लोकदल का दामन थाम लिया था। प्रदेश में हुए 2017 के विधानसभा चुनाव में नरायन सिंह सुमन ने रालोद के टिकट से आगरा ग्रामीण विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ा था और हार का सामना करना पड़ा था।

इसके बाद लोकसभा चुनाव में भी पिता पुत्र ने सक्रिय रूप से रालोद के लिए काम नहीं किया था। बसपा में वापसी पर नारायन सिंह सुमन का कहना है कि वह अब बसपा की मजबूती के लिए काम करेंगे। वीरू सुमन ने बताया कि वह पार्टी कार्यकर्ताओं के साथ संगठन के काम में जुटेंगे।