योगी सरकार में विधायक हुए बेबस, पुलिस के खिलाफ कोतवाली में रातभर धरने पर बैठे बीजेपी MLA

लखनऊ | योगी सरकार में भाजपा के विधायकों की भी कोई नहीं सुन रहा है | उन्नाव के सदर से भाजपा विधायक पंकज गुप्ता अपने समर्थकों के साथ पुलिस पर बुजुर्ग पर मारपीट का आरोप लगाकर रातभर कोतवाली में धरने पर बैठे रहे। वह डीएम व एसपी को मौके पर बुलाए जाने के बात पर अड़े रहे और पुलिस के खिलाफ नारेबाजी करते रहे। सुबह डीएम व एसपी ने शहर कोतवाली पहुंच कर कार्रवाई का आश्वासन दिया तब मामला शांत हो सका।

शहर कोतवाली के आदर्शनगर में महिला थाने की सरकारी भूमि पर कब्जेदारी को लेकर मंगलवार को पुलिस ने चार नामित व तीस अज्ञात लोगों के विरुद्ध केस दर्ज किया गया था। अधिकारियों के आदेश पर पुलिस ने सात लोगों को पकड़ कर कोतवाली पहुंचा दिया। इसती जानकारी होते ही सदर विधायक पंकज गुप्ता समर्थकों के साथ कोतवाली पहुंच गए। विधायक का आरोप था कि पकड़े गए वृद्ध के साथ पुलिसकर्मियों से मारपीट की। विधायक ने कहा कि उन्नाव पुलिस निरंकुश हो चुकी है, परेशान होकर मजबूरन उन्हें धरने पर बैठना पड़ा। सीओ ने समझाने की कोशिश की लेकिन बात नहीं बनी। मामला बढ़ने पर विधायक व उनके कार्यकर्ताओं ने सीओ सिटी पर गंभीर आरोप लगा पूरी रात नारेबाजी करते हुए डीएम व एसपी को मौके पर बुलाए जाने की बात पर अड़े रहे।

विधायक ने कहा कि कार्यकर्ताओं व आम आदमी को वाहन चेकिंग के नाम पर पुलिस प्रताड़ित कर रही है। हाल ही में पूर्व भाजपा जिलाध्यक्ष श्रीकांत कटियार से भी पुलिस कर्मियों से अभद्रता की थी। उन्होंने कहा कि संभ्रांत लोगों के खिलाफ कार्रवाई और अपराधी सड़कों पर घूम रहे हैं। पूरे मामले को सीएम को बताएं और विधानसभा में प्रश्न भी उठाएंगे। मामला बढ़ने पर रात आधा दर्जन से अधिक थानों की पुलिस शहर कोतवाली पहुंच गई। देर रात एएसपी उत्तरी विनोद कुमार पांडे ने कोतवाली पहुंच विधायक समेत कार्यकर्ताओं को समझाने का प्रयास किया, मगर सभी डीएम और एसपी को मौके पर बुलाए जाने की मांग करते रहे। तड़के डीएम रविंद्र कुमार व एसपी रोहन पी कनय ने शहर कोतवाली पहुंच सदर विधायक से बातचीत और आश्वासन दिया कि जांच करवा कर दोषियों पर कार्रवाई की जाएगी। डीएम व एसपी के आश्वासन दिए जाने के बाद मामला शांत हो गया और सभी कोतवाली से रवाना हो गए।