अलीगढ की राजनीति से बड़ी खबर, फिर ‘साइकिल’ पर सवाल होंगे जमीरउल्लाह, अखिलेश यादव से की मुलाकात

अलीगढ | जिले की राजनीति में एकबार फिर तेजी से गर्माहट बड़ी है | समाजवादी पार्टी से दो बार विधायक रह चुके जमीरउल्लाह खां की घर वापसी की तैयारियां पूरी हो चुकी हैं। औपचारिक एलान होना बाकी है। उन्होंने सोमवार को लखनऊ में पार्टी के सुप्रीमो अखिलेश यादव से मुलाकात की।

लखनऊ पहुुंचे पूर्व विधायक जमीरउल्लाह खां ने अखिलेश यादव से मुलाकात की। उनसे अलीगढ़ से लेकर प्रदेश तक की सियासत पर घंटों बातचीत हुई। हालांकि, पार्टी की सदस्यता लेने के सवाल पर उन्होंने कहा कि इसका एलान चार नवंबर को होगा। यह एक शिष्टाचार मुलाकात थी। सियासी गलियारों में जमीरउल्लाह के पार्टी में शामिल हो जाने को लेकर चर्चाएं हैं।

सपा के बाद बसपा, कांग्रेस में रह चुके हैं जमीरउल्लाह-
शहर विधानसभा व कोल विधानसभा क्षेत्र से सपा से जमीरउल्लाह खां विधायक रह चुके हैं। वर्ष 2017 विधानसभा चुनाव से पहले सपा में दो फाड़ हो गया था। कद्दावर नेता शिवपाल सिंह यादव पार्टी से अलग हो गए थे। जमीरउल्लाह खां को शिवपाल सिंह के खेमे का माना गया था। इसलिए अखिलेश यादव ने उन्हें टिकट नहीं दिया था। बावजूद इसके वह निर्दलीय कोल विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़े, लेकिन हार गए। उसके बाद वह बसपा में चले गए, जहां उन्हें अपनी वाकपटुता के चलते निष्कासित कर दिया गया था।

लोकसभा चुनाव के दौरान पूर्व विधायक जमीरउल्लाह खां को नई दिल्ली में कांग्रेस के पश्चिमी उत्तर प्रदेश के प्रभारी ज्योतिरादित्य सिंधिया ने पार्टी में शामिल कराया था। इससे पहले जमीरउल्लाह खां के आवास पर हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र हुड्डा, करण दलाल ने भोजन किया था।