आज़म खान से रामपुर के दो अफसरों को जान का खतरा, सपा नेता बोले- ‘अधिकारी रच रहे हत्या का षडयंत्र’

सत्यम सक्सेना/रामपुर । अपर जिलाधिकारी (प्रशासन) जगदम्बा प्रसाद एवं नगर मजिस्ट्रेट सर्वेश कुमार गुप्ता ने सपा नेता आजम खां से अपनी जान का खतरा बताया है। इसको लेकर उन्होंने मंडलायुक्त को पत्र भेजा है। साथ ही किसी अनहोनी की भी आशंका जताई है। मंडलायुक्त यशवंत राव का कहना है कि उन्हें न तो आजम खां की ओर से कोई शिकायती पत्र मिला है और न ही सिटी मजिस्ट्रेट की ओर से कोई शिकायत अभी तक मिली है।

चुनाव की आचार संहिता लगने से पहले ही स्थानांतरित होकर रामपुर आए जिलाधिकारी आन्जनेय कुमार सिंह, अपर जिलाधिकारी प्रशासन जगदम्बा प्रसाद गुप्ता, नगर मजिस्ट्रेट सर्वेश कुमार गुप्ता शुरुआत से ही सपा नेता आजम खां के निशाने पर रहे हैं। मंगलवार को अपर जिलाधिकारी प्रशासन जगदम्बा प्रसाद एवं नगर मजिस्ट्रेट सर्वेश कुमार गुप्ता ने मंडलायुक्त को पत्र भेजा, जिसकी प्रति पुलिस अधीक्षक शिव हरि मीना को भी भेजी है। दोनों ने कहा है कि उन्हें आजम से अपनी जान का खतरा है। उनके आवास एवं वाहनों के इर्द गिर्द संदिग्ध लोग देखे गए हैं।

उन्होंने मंडलायुक्त से प्रभावी कदम उठाने की अपील की है। वहीं जिलाधिकारी आन्जनेय कुमार सिंह का कहना है कि दोनों अधिकारियों ने अपने आवास और कार्यालय के पास कुछ संदिग्ध लोगों के देखे जाने की बात कही है। इस मामले की जांच कराई जा रही है। वहीं एसपी का कहना है कि दोनों अधिकारियों का पत्र मिला है, उनकी सुरक्षा की समीक्षा की जा रही है।

सपा नेता आजम खां ने 23 मई होने वाली मतगणना में गड़बड़ी की आशंका जताई है। उन्होंने आरोप लगाया कि अधिकारी उनकी हत्या का षड्यंत्र रच रहे हैं। इसके लिए अधिकारियों ने इसकी पेशबंदी करनी शुरू कर दी है। उनसे अपनी जान का खतरा बताते हुए एडीएम ने एसपी को पत्र भेजा है। आजम खां ने कहा कि वह अपनी सुरक्षा वापस करना चाहते हैं। वह अपना, अपने बेटे अब्दुल्ला और पत्नी के शस्त्र बेचना चाहते हैं। इसके लिए उन्होंने मंडलायुक्त मुरादाबाद को पत्र भेजा है।